AgricultureHealth/ fitnessHindi Newsदेश

कैंसर का इलाज करेगा बिहार का ये नींबू, अमेरिका और फ्रांस जैसे देशों में भेजने की तैयारी, जानिए क्या है खासियत?

कैंसर का इलाज करेगा बिहार का ये नींबू, अमेरिका और फ्रांस जैसे देशों में भेजने की तैयारी, जानिए क्या है खासियत?

पूर्णिया के गांव में उगाए गए गंधराज नींबू की चर्चा आज पूरी दुनिया में हो रही है। ऐसे में इस नींबू का इस्तेमाल दूसरे देशों में कैंसर (गंधराज लेमन विल प्रिवेंट कैंसर डिजीज) जैसी गंभीर बीमारी से बचाव के लिए किया जाता है। आपको बता दें कि पूर्णिया के रामनगर गांव में गंधराज नींबू का उत्पादन होता है और दूसरे देशों को एक्सपोर्ट करने वाली मुंबई की कंपनी इसके लिए करार कर रही है. मालूम हो कि यह कंपनी हर साल 50 हजार टन गंधराज नींबू पूर्णिया से खरीदकर अमेरिका, फ्रांस, हॉलैंड, दुबई और जर्मनी जैसे कई बड़े देशों के बाजारों में सप्लाई करेगी. ऐसे में वैश्विक स्तर पर बिहार गंधराज लेमन की चर्चा हो रही है.

बिहार से मुंबई और फिर विदेश में लोगों का इलाज करने पहुंचा पूर्णिया का नींबू

ये भी पढ़े – नेपाल विमान हादसे की एयर होस्टेस का टिकटॉक वीडियो हुआ वायरल

मुंबई की ब्रिंग इंटीग्रेटेड लाजिस्टिक कंपनी के प्रेसिडेंट ने पिछले दिनों ही पूर्णिया का दौरा किया था। सात ही उन्होंने यहां नेचुरल फॉर्म के किसान हिमकर मिश्रा की खेती का मुआयना किया है। बता दें कि गंधराज नींबू के छिलके और रस से कैंसर जैसे गंभीर रोग का इलाज होता है, जिसकी डिमांड दूसरे देशों में काफी ज्यादा है।

दरअसल, सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर बड़े पैमाने पर गंधराज नींबू की खेती की जानकारी मिलने के बाद ब्रिंग इंटीग्रेटेड लॉजिस्टिक्स कंपनी के वाइस प्रेसिडेंट मुंबई से सीधे पूर्णिया आ गए. उन्होंने यहां 4 दिन रुककर नींबू उत्पादन का निरीक्षण किया। पूर्णिया के केंगर प्रखंड के रामनगर गांव की प्राकृतिक खेती से वे काफी प्रभावित हुए. उन्होंने श्री मिश्र से भेंट कर न केवल गांधार बल्कि अन्य प्राकृतिक आपदाओं के लिए भी कई महत्वपूर्ण कार्य योजनाएँ तैयार कीं।

 

मालूम हो कि गंधराज नींबू के अलावा देश के अलग-अलग हिस्सों में लाल अमरूद, गुलाबी मिर्च और हल्दी बांटने की योजना है. किसान हिमांशु मिश्रा का कहना है कि उनके ग्रीष्मकालीन प्राकृतिक रूप में वर्तमान में गंधराज नींबू के एक लाख पौधे हैं, जबकि 50 हजार और पौधे लगाने की योजना है. उन्होंने कहा कि गंधराज नींबू बांग्लादेश के रंगपुर से आया है। इसका दूसरा नाम रंगपुरा नींबू है। इसकी खेती बंगाल और असम में भी की जाती है।

ये भी पढ़े – Sahara India: सहारा इंडिया के निवेशकों के लिए बड़ी खबर, जानिए पूरी खबर

ये भी पढ़े – ₹20 का ये नोट आपको चंद पलों में ही बना देगा लाखों का मालिक, जानिए कैसे

यह पोस्ट आपको कैसा लगा ?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0

नई ताक़त न्यूज़

देश का तेजी से बढ़ता विश्वसनीय दैनिक न्यूज़ पोर्टल। http://naitaaqat.in/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button