उत्तर प्रदेश

15 दिन से लापता अर्चना का शव तालाब से बरामद, कोचिंग के लिए गई थी

यह खबर उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर की है, माता पिता का कहना है कि बेटी अर्चना 10 जनवरी को कोरोकुइयां के एक स्कूल में पढ़ने के लिए घर से निकली थी लेकिन वह उस घर वापस नही आई इस घटना को करीब 14 दिन हो चुके थे, फिर एक दिन पुलिस को सुबह रामनगरिया और देवरिया के बीच तालाब में पड़े बैग से उसका शव बरामद किया. अर्चना की हत्या कर शव को बोरे में बंद कर तालाब में फेंक दिया गया था

यह घटना सिंधौली प्रखंड के शिवनगर गांव की है. मृतक के पिता सुखलाल ने बताया कि उनकी बेटी कोरोकियां के ईडन पब्लिक स्कूल में 12वीं कक्षा में पढ़ती थी. 10 जनवरी को वह कोचिंग के लिए गई, लेकिन देर शाम तक नहीं लौटी, जिसके बाद काफी तलाश की गई, लेकिन कोई सुराग नहीं मिला। फिर वह बेटी की गुमशुदगी की शिकायत दर्ज कराने के लिए सिंधौली थाने गए, जहां एक पुलिस कांस्टेबल ने उन्हें आश्वासन दिया कि उनकी बेटी की तलाश की जाएगी।

यह भी देखे :भोपाल में नौकरी दिलाने का झांसा देकर युवती से किया गैंगरेप, केस दर्ज

कई दिन और बीत जाने के बाद सुखलाल थाने का चक्कर लगाता रहा, लेकिन पुलिस ने उसकी गुमशुदगी दर्ज नहीं की। सुखलाल ने पुलिस को बताया कि उसकी बेटी के पास भी एक मोबाइल फोन था, उसकी कॉल डिटेल निकली तो कुछ सुराग मिल सकता है, लेकिन हल्का पुलिसकर्मी सुखलाल को ताना मारता रहा। मंगलवार की सुबह दौरिया गांव के पास नहर में किसी को बोरी पड़ी मिली, जिससे दुर्गंध आ रही थी. तालाब के पास स्थित मंदिर के पुजारी ने बोरा देखा। इसकी जानकारी ग्रामीणों को दी गई। इसके बाद पुलिस बुलाई गई। कुछ देर बाद सुखलाल को भी पता चला कि एक लाश मिली है तो वह भी देखने आया। लाश देख सुखलाल पहले बेहोश हो गया। तीन बहनों में चार बहनें और एक भाई सुरजीत (28) की शादी हो चुकी है, वह सबसे छोटी थी।

अगर पुलिस सख्ती दिखाती तो घटना नहीं होती

10 जनवरी को अर्चना के लापता होने के बाद 15 जनवरी को सुखलाल अपनी बेटी की गुमशुदगी की शिकायत दर्ज कराने गया तो पुलिस ने एक चिड़िया को चौकी भेजकर चौकी भेज दिया. पुलिस के सक्रिय होने के पहले दिन से ही यह हत्या टल जाती।

दरोगा दौड़ाता रहा, नहीं दर्ज की गुमशुदगी

सुखलाल ने कहा कि बेटी के लापता होने के बाद वह चौकी गया, फिर थाने भी गया, लेकिन चौकी का सिपाही इधर-उधर भागता रहा, लेकिन गुमशुदगी दर्ज नहीं की. कई बार कहा कि मोबाइल को सर्विलांस पर लगाओ। एक मत सुनो। वहीं, पुलिस के मुताबिक पुलिस अपना काम कर रही थी।

यह भी देखे : पठान फिल्म को रोकने सिनेमाघरों में बजरंग दल के कार्यकर्ता लाठियां लेकर पहुंचे

यह पोस्ट आपको कैसा लगा ?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0

नई ताक़त न्यूज़

देश का तेजी से बढ़ता विश्वसनीय दैनिक न्यूज़ पोर्टल। http://naitaaqat.in/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button