Top story

Chanakya Niti : लड़कीयों को ये काम करने में होता है आनंद महसूस

Chanakya Niti: आधुनिक दुनिया में भी कौटिल्य नीति के उनके वचनों को लाखों लोग प्रतिदिन पढ़ते हैं और इससे प्रेरित होकर कई राजनेता, व्यवसायी आज भी चाणक्य की बातों को आधुनिक जीवन में उपयोगी पाते हैं।

आचार्य चाणक्य के इस ज्ञान को नीतिविद्या के नाम से जाना जाता है। चाणक्य नीति आपको जीवन में कुछ भी हासिल करने में मदद करती है, चाहे आप किसी भी क्षेत्र में हों।

चाणक्य ने स्त्री और पुरुष की तुलना करके अपने विचार व्यक्त किए हैं। महिलाओं में पुरुषों की तुलना में दोगुनी भूख होती है। हमें भविष्य के समाचार पत्रों में विस्तार से बताएं। चाणक्य नीति मूल रूप से संस्कृत में लिखी गई थी, जिसे बाद में अंग्रेजी और कई अन्य भाषाओं के साथ-साथ हिंदी में भी अनुवादित किया गया।
अगर आप चाणक्य नीति को पूरा पढ़ेंगे और उसका पालन करेंगे तो आपको सफल होने से कोई नहीं रोक सकता।

आचार्य चाणक्य ने भी अपनी राजनीतिक पुस्तकों में महिलाओं के विशेष लक्षणों का वर्णन किया है, जिन्हें महिलाएं हमेशा अपनी चेतना में रखती हैं।

उसने इस बारे में किसी को नहीं बताया। चाणक्य अपनी राजनीति में महिलाओं को पुरुषों के बराबर मानते हैं और अपने विचार व्यक्त करते हैं।,इस राजनीति में आचार्य चाणक्य ने नारी की भूख, लज्जा, अर्थ, लज्जा, साहस और वासना का वर्णन किया है। आइए जानें ऐसी कौन सी चीजें हैं जो महिलाएं अब शेयर नहीं करती हैं।

महिलाएं दोगुनी भूखी होती हैं

आचार्य चाणक्य के उपरोक्त श्लोक के अनुसार नारी शक्ति का वर्णन किया गया है। आचार्य चाणक्य के अनुसार महिलाओं को पुरुषों की तुलना में दोगुनी भूख लगती है।

आज की लाइफस्टाइल में काम से महिलाओं की डाइट तो बाधित होती है, लेकिन वे अपनी भूख को कंट्रोल में रखती हैं।

चार गुना महिलाओं की शर्म

आचार्य चाणक्य की चाणक्य नीति के अनुसार पुरुषों की तुलना में महिलाओं में शर्मिंदगी चार गुना अधिक होती है। महिलाओं को इस कदर शर्मिंदगी उठानी पड़ती है कि वो अक्सर कुछ भी कहने की सोचती हैं.

साहस छह गुना

चाणक्य नीति के अनुसार महिलाएं शुरू से ही साहसी होती हैं। वहीं महिलाएं भी पुरुषों की तुलना में छह गुना बहादुर होती हैं। इसलिए नारी को शक्ति की प्रतिमूर्ति के रूप में भी देखा जाता है। पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अधिक कामेच्छा आचार्य चाणक्य के अनुसार महिलाओं में भी काम की इच्छा पुरुषों के मुकाबले आठ गुना ज्यादा होती है, लेकिन उनमें शर्म और सहनशीलता बहुत होती है। इसलिए वे इसका खुलासा नहीं करतीं और अपने संस्कारों को ध्यान में रखकर उनकी रक्षा करती हैं. . पूरी गरिमा के साथ परिवार।

ये भी पढ़े-रात भर टिकने के लिए मुगल बादशाह ये चीज का करते थे सेवन

ये भी पढ़े-मिर्जापुर के कालीन भैया उर्फ Pankaj Tripathi की बेटी है हुस्न की मलिका,देखिए तस्वीरें

यह पोस्ट आपको कैसा लगा ?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0

नई ताक़त न्यूज़

देश का तेजी से बढ़ता विश्वसनीय दैनिक न्यूज़ पोर्टल। http://naitaaqat.in/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker