Top story

इस वजह से आयरलैंड में नहीं है एक भी सांप।

इस वजह से आयरलैंड में नहीं है एक भी सांप।

नई ताकत न्यूज नेटवर्क।

 

क्या आयरलैंड में सांप पाए जाते हैं?
आयरलैंड (Ireland) में कभी कोई सांप नहीं दिखा. इसके पीछे अजीबोगरीब कहानियां कही जाती हैं. हालांकि वैज्ञानिक कुछ और ही कहते हैं. बारिश में भारत में ग्रामीण इलाकों में सांप निकलना आम बात है.

आयरलैंड (Ireland) में कभी कोई सांप नहीं दिखा. इसके पीछे अजीबोगरीब कहानियां कही जाती हैं. हालांकि वैज्ञानिक कुछ और ही कहते हैं.

बारिश में भारत में ग्रामीण इलाकों में सांप निकलना आम बात है. बाढ़ और जलभराव के कारण कई जगहों पर सांप काटने से मौत की खबरें भी आती रहती हैं. हालांकि दुनिया में कई ऐसे देश हैं, जहां एक भी सांप नहीं है. आयरलैंड ऐसा ही एक देश है. इसके साथ ही न्यूजीलैंड, आइसलैंड, ग्रीनलैंड और अंटार्कटिका के नाम आते हैं. जानिए, क्यों आयरलैंड या इन कई जगहों को सांप-विहीन माना जाता है.

आयरलैंड में क्या है मान्यता

उत्तरी-पश्चिमी यूरोप के इस देश में सांपों के न होने के बारे में कई किस्से-कहानियां कही जाती हैं. जैसे आयरिश लोगों को मानना है कि पहले उनके यहां काफी सांप होते थे. एक बार उन्होंने लोगों को परेशान करना शुरू कर दिया. तब वहां के संत पैट्रिक ने धर्म और लोगों की रक्षा के लिए सारे सांपों को घेरा और उन्हें देश से बाहर करते हुए समुद्र तक ले गए. इसके बाद से सांप समुद्र में ही बस गए और उनके देश आने की हिम्मत नहीं जुटा सके. ये भी माना जाता है कि इस काम को संत ने पूरे 40 दिनों तक भूखे-प्यासे रहकर किया था. इसके बाद से आयरलैंड में हर साल मार्च में संत की पूजा बड़े ही धूमधाम से की जाती है.

क्या है वैज्ञानिक का मानना

वैसे वैज्ञानिक इस तरह की मान्यताओं को सिरे से नकारते हैं. नेशनल जियोग्रफिक की एक रिपोर्ट में नेशनल म्यूजियम ऑफ आयरलैंड की शोधार्थी नाइजेल मोनागन कहते हैं कि आयरलैंड में कभी सांप थे, इसका कोई प्रमाण ही नहीं मिलता है. यानी संत पैट्रिक का इसमें कोई योगदान नहीं. तब ऐसा क्या था जो दुनिया के लगभग सारे देशों में सांप हैं लेकिन आयरलैंड में नहीं! इसका जवाब मिलता है आइस एज में यानी जब धरती पर बर्फ ही बर्फ थी. इसमें रेप्टाइल्स का रहना असंभव है. बता दें कि सांप भी रेप्टाइल श्रेणी में आता है. 10000 साल पहले जब बर्फ पिघली तो भी आयरलैंड पर इसके बेहद ठंडे तापमान के कारण सांप नहीं आ सके. हालांकि इकलौता जो रेप्टाइल आयरलैंड पर आ सका, वो है छिपकली.

सांपों के न होने के कारण इस देश में वैसे सांप पालने का फैशन भी काफी है. इस बारे में कई रिपोर्ट्स आती रहती हैं कि कैसे किसी घर में बड़े से अजगर या जहरीले सांप पाले गए हैं.

न्यूजीलैंड भी सांपों से विहीन देश।

इसी तरह से न्यूजीलैंड में भी सांप नहीं हैं. द्वीपों से बने इस देश में वैसे कई जंगली जानवर पाए जाते हैं लेकिन हैरत की बात है कि यहां भी आज तक एक भी सांप नहीं मिला. यहां भी रेप्टाइल्स के नाम पर छिपकली ही पाई जाती है. वैसे न्यूजीलैंड के आसपास समुद्र में कई तरह के सांप होते हैं, जैसे पीले रंग के सांप, समुद्री करैत. लेकिन ये भी पानी को छोड़कर कभी जमीन पर नहीं आते.

इसके पीछे कोई कारण नहीं पता लेकिन न्यूजीलैंड सरकार और लोग मानते हैं कि अब सांपों का आना उनके देश के लिए खतरा हो सकता है. यही वजह है कि अगर कभी व्यापारी जहाजों से होते हुए सांप आ भी जाएं तो उन्हें तुरंत वहां से हटा दिया जाता है ताकि वे द्वीपों पर बस न सकें.

सख्त है न्यूजीलैंड के कानून

वैसे न्यूजीलैंड की एंटी-स्नेक पॉलिसी भले ही जानने वालों को अजीब लगे, लेकिन उनके पास इसकी वजह है. इस द्वीप पर लगभग 1000 साल पहले इंसानों की आवाजाही शुरू हुई, इसके बाद से ही यहां पर काफी सारे जीव-जंतु कम हुए. लगभग एक तिहाई पक्षी और एक दर्जन वनस्तियां खत्म हो गईं. कई सारी प्रजातियां विलुप्त होने को हैं. इसी वजह से माना जा रहा है कि अगर सांप आए तो कई दूसरी स्पीशीज को खतरा हो सकता है. यही वजह है कि न्यूजीलैंड सांपों को लेकर इतनी सख्त पॉलिसी रखता है.

बर्फ में नहीं मिलते सांप

अंटार्कटिका में भी सांप नहीं पाए जाते हैं. हालांकि दूसरी जगहों की अपेक्षा इसकी वजह साफ है. असल में सांपों या किसी भी रेप्टाइल के पास अपने शरीर को गर्म रखने के लिए खुद ऊर्जा निकालने की क्षमता नहीं होती है. गर्मी के लिए वे अपने आसपास के वातावरण पर निर्भर होते हैं. यही वजह है कि इन्हें कोल्ड ब्लडेड एनिमल कहा जाता है. ये प्रजाति बर्फीले इलाके, जहां लगभग बारहों महीने बर्फ रहे, वहां जीवित नहीं रह सकती. इसलिए ही यहां कोई सांप नहीं पाया जाता.

Credit :- Hindi News .

यह पोस्ट आपको कैसा लगा ?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0

नई ताक़त न्यूज़

देश का तेजी से बढ़ता विश्वसनीय दैनिक न्यूज़ पोर्टल। http://naitaaqat.in/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button