Mughal Harem History: मुग़ल हरम में कनीजों के साथ होता था,ये घिनौना काम जान कर उड़ जायेगें आपके होश

Share this

Mughal Harem History: मुगल इतिहास के बारे में तो हर कोई जानता है, मगर मुगल हरम के बारे में सब नहीं जानते जी हां मुगलों का हरम (Harem) हुआ करता था और उसे हरम में बहुत से प्रकार की ऐसे काम हुआ करते थे  जिन्हें जानकर आप हैरान रह जाएंगे तो आया जानते हैं मुगल हरम के बारे में(Mughal Harem History)

यह भी पढ़े: Mughal History: इस बादशाह छोटी उम्र की 20 शादियाँ, इस मुगल सम्राट की केवल एक पत्नी थी

हरम की रंगीन और भ्रमित करने वाली दुनिया में जासूसों का भी महत्वपूर्ण स्थान हुआ करता था ताकि वह हरम की गहराई से जांच कर सकें. हरम की नौकरानी का एक अनोखा रूप उनका जासूस बना था, वहां की रखना केवल बादशाह के करीब रही बल्कि उनकी आंतरिक से समझती थी और उनके राजनीति को समझौते थे इतना ही नहीं वेगमों के साथ राजनीतिक खेल भी खेला करती थी उन्होंने अपने जीवन की परवाह किए बिना सम्राट के खुफिया रहस्य की अद्भुत ढंग से रक्षा करी.

मुगल बादशाह अकबर (Emperor Akbar) के हरम की विशेषता यह थी कि इसमें बड़ी संख्या में महिलाएँ रहती थीं। माना जाता है कि अकबर के हरम में उस समय पांच हजार से अधिक महिलाएं थीं, जिनके बीच राजनीतिक योजनाओं, आत्मसमर्पण और प्रेम की अंधेरी दुनिया की कहानियां छिपी थीं।हरम में जिस गतिविधि की विशेष चर्चा होती थी वह थी “बेगम का राज”। हरम की रखैलों (concubines) में एक विशेष नायिका बेगम थी, जो बादशाह की सबसे करीबी और उसकी सबसे प्रतिभाशाली सलाहकार भी थी। उसके शासन के तहत हरम में रहने वाली अन्य उपपत्नियों को उसकी अनुमति के बिना किसी से बात करने की अनुमति नहीं थी।

हरम में एक और चुनौती उन युवतियों के लिए थी जो गर्भवती हो गईं। यह उनके लिए बहुत बड़ा संकट था, क्योंकि उनका बच्चा हरम में नहीं रह सकता था और ऐसे छोटे सितारे उनके लिए नहीं बन सकते थे। परिणामस्वरूप, गर्भवती रखैलों को ले जाने का अनुरोध किया गया।यह रूपरेखा दर्शाती है कि मुगल हरम की दुनिया राजनीतिक और सामाजिक रूप से कितनी उलझी हुई थी। उस अनोखी दुनिया के पर्दे के पीछे छिपी इन गहराइयों को समझकर हम उसकी सच्चाई को समझ सकते हैं और उसकी वास्तविकता का निष्कर्ष निकाल सकते हैं।

यह भी पढ़े: Akbar History:अकबर कौन था ? (Who was Akbar?) भारत कैसे आया अकबर ? (How did Akbar come to India?)

Ramesh Kumar
Author: Ramesh Kumar

Leave a Comment

x