MP NEWS – 3 थर्मल पावर हाउस के राखड़ डेम पर लगेंगे सोलर पैनल मप्र के इस फार्मूले को केंद्र सरकार ने पूरे देश में किया लागू

Share this

MP NEWS (ईएमएस)। MP Energy Department अब थर्मल पावर स्टेशनों (thermal power stations) के राखड़ डेम (Rakhar Dam) का इस्तेमाल भी सूरज से बिजली पैदा करने के लिए करेगा। इसके लिए प्रदेश के तीन थर्मल पावर हाउस को चुना गया है। खंडवा के सिंगाजी, उमरिया के बिरसिंहपुर और बैतूल के सारणी के राखड़ (fly ash ) डेम पर solar panel लगाकर बिजली बनाई जाएगी। इन तीनों ज गहों पर शुरुआती चरण में कुल 114 मेगावॉट बिजली बनेगी। इसके लिए प्रदेश के ऊर्जा विभाग ने केंद्र सरकार को कैलकुलेशन के तौर पर एक फार्मूला भेजा था। इसके मुताबिक राखड़ डेम पर पौधरोपण के बजाय सोलर पैनल लगाने से कार्बन उत्सर्जन 35 गुना कम किया जा सकेगा।

ऊर्जा विभाग के प्रमुख सचिव संजय दुबे ने बताया कि मप्र के इस फार्मूले को केंद्र सरकार ने पूरे देश में लागू कर दिया है। अफसरों का दावा है कि वन विभाग से जमीन हस्तांतरित होते ही अगले साल इन तीनों राखड़ डेम पर सोलर प्लांट से बिजली बनने लगेगी। तय मानक के अनुसार थर्मल पावर हाउस में रोजाना एक मेगावाट बिजली बनाने के लिए 1400 किलो ए ग्रेड कोयला लगता है।

बिरसिंहपुर पावर हाउस में 1340 मेगावाट बिजली उत्पादन के लिए रोजाना 1876 टन, सिंगाजी पावर हाउस में 2520 मेगावाट बिजली के लिए 3528 टन और सारणी में 1330 मेगावाट बिजली के लिए 1862 टन कोयला लगता है। लगभग 90त्न राख के रूप में डंपिंग याड्र्स में इकठ्ठा होता है। इसमें से 10त्न राख हवा में उड़ जाती है। ऊर्जा विभाग के प्रमुख सचिव संजय दुबे का कहना है कि इसके लिए अलग से जमीन की जरूरत नहीं पड़ेगी। अपने ही थर्मल पावर हाउस के पास सोलर पैनल लगा सकेंगे। बिजली की ज्यादा डिमांड होने पर वह पूरी की जा सकेगी। सोलर प्लांट के लिए टेंडर निकाले जा चुके हैं।

 

 

रामलला की पहली झलक मिलते ही छलके आंसू

Leave a Comment

x