बॉक्सर विजेंदर के आने से हरियाणा से दिल्ली तक बीजेपी को क्या फायदा होगा; यह डील कांग्रेस के लिए झटका है

Share this

बॉक्सर विजेंदर सिंह (boxer vijender singh) बीजेपी (bjp) में शामिल हो गए हैं. अब तक वह कांग्रेस के सदस्य थे और चुनाव भी लड़ चुके हैं. विजेंदर सिंह के शामिल होने से दिल्ली से लेकर हरियाणा तक पार्टी को फायदा होने की उम्मीद है. वह हरियाणा के भिवानी के रहने वाले हैं और जाट समुदाय से हैं। ऐसे में पार्टी को बीजेपी के खिलाफ जाटों की नाराजगी की चर्चाओं से निपटने में मदद मिलने की उम्मीद है. 2019 के लोकसभा चुनाव में विजेंदर सिंह कांग्रेस में शामिल हो गए और दक्षिण दिल्ली लोकसभा सीट से चुनाव लड़ा। हालांकि, उन्हें हार का सामना करना पड़ा.

विजेंदर सिंह ने दिल्ली में प्रदर्शन कर रहे किसान आंदोलन और महिला पहलवानों का समर्थन किया. उन्होंने महिला पहलवानों का समर्थन करते हुए कहा कि अगर उन्हें न्याय नहीं मिलेगा तो लोग अपनी बेटियों को स्टेडियम में कैसे भेजेंगे और खेल में आगे कैसे बढ़ाएंगे. ऐसे में विजेंदर सिंह की बीजेपी में एंट्री उस पूरे नैरेटिव को बदलने वाली है. विजेंदर सिंह ने कहा कि बीजेपी में आना मेरे लिए घर वापसी जैसा है. उन्होंने कहा कि इस सरकार में खिलाड़ियों को जो सम्मान मिला है, वह महत्वपूर्ण है. मैं चाहूंगा कि इस पार्टी में रहकर मैं खिलाड़ियों का सम्मान कर सकूं.

उन्होंने कहा कि आज जब हम विदेश में खेलने जाते हैं तो अलग माहौल होता है. आपको बता दें कि विजेंदर सिंह की बीजेपी में एंट्री चौंकाने वाली है. दरअसल वह मंगलवार रात तक राहुल गांधी के ट्वीट को रिट्वीट कर रहे थे. ऐसे में उनके अचानक बीजेपी में शामिल होने की खबर से कांग्रेस को भी झटका लगने वाला है. विजेंदर सिंह ने 2019 के आम चुनाव में दक्षिणी दिल्ली सीट से चुनाव लड़ा था, लेकिन वह बीजेपी के रमेश बिधूड़ी से हार गए थे।

बीजेपी को कैसे फायदा होने की उम्मीद है

दरअसल बीजेपी ने हरियाणा में जननायक जनता पार्टी से गठबंधन तोड़ दिया है. इसके अलावा मुख्यमंत्री भी सैनी समाज से ही बने हैं. किसान आंदोलन और महिला पहलवानों के आंदोलन भी हुए हैं। इसके चलते हरियाणा में चर्चा थी कि बीजेपी को जाटों की नाराजगी का सामना करना पड़ेगा, लेकिन विजेंदर सिंह जैसे नेता के आने से बीजेपी को इस कहानी को काटने में मदद मिलेगी.

Awanish Tiwari
Author: Awanish Tiwari

Leave a Comment