मणिपुर में फिर भडक़ी हिंसा उपद्रवियों ने की फायरिंग, 2 जवान शहीद

Share this

थौबल(ईएमएस)। मणिपुर के थौबल जिले में अज्ञात सशस्त्र हमलावरों ने सुरक्षा बलों पर गोलीबारी की, जिसमें दो जवान शहीद हो गए और बीएसएफ के 3 जवान घायल हो गए। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि अज्ञात समूहों के कुछ सशस्त्र कैडरों ने बुधवार देर रात थौबल जिला पुलिस मुख्यालय पर हमला करने का प्रयास किया और सुरक्षाकर्मियों पर गोलीबारी की, लेकिन हमले को विफल कर दिया। बीएसएफ के तीन जवानों में से दो सहायक उप-निरीक्षक (एएसआई) सोबराम सिंह और रामजी थे। तीसरे की पहचान कांस्टेबल गौरव कुमार के रूप में हुई। उन्हें इम्फाल के एक निजी अस्पताल में स्थानांतरित कर दिया गया।

एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि भीड़ ने थौबल जिले के खंगाबोक में तीसरी मणिपुर सशस्त्र बटालियन मुख्यालय को निशाना बनाया। एक पुलिस ने इस बारे में बताया कि मुस्तैदी दिखाते हुए उन्होंने बदमाशों को खदेड़ दिया। इसके अलावा, भीड़ ने थौबल पुलिस मुख्यालय को तोडऩे का प्रयास किया, जिसके बाद सुरक्षा बलों को बल प्रयोग करना पड़ा। भीड़ में से हथियारबंद बदमाशों ने ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी। परिणामस्वरूप, बीएसएफ के तीन जवान गोली लगने से घायल हो गए।

कफ्र्यू लगाया गया

घटना के कारण, थौबल में पूर्ण कफ्र्यू लगा दिया गया और पूरे जिले में सुरक्षा और कड़ी कर दी गई है। तेंग्नौपाल जिले के मोरेह में भारी हथियारों से लैस उग्रवादियों के हमले में मणिपुर पुलिस के दो कमांडो मारे गए और दो गोली लगने से घायल हो गए। जब सुरक्षाकर्मियों ने घायल सुरक्षाकर्मियों को इलाज के लिए अस्पताल ले जाने की कोशिश की, तो महिलाओं सहित कुछ आदिवासियों ने उन्हें रोकने का प्रयास किया। वे बलों के साथ भिड़ गईं जिससे लड़ाई में कई आदिवासी लोग घायल हो गए। एक प्रमुख सीमा व्यापार केंद्र मोरेह म्यांमार के सबसे बड़े सीमावर्ती शहर तामू के पश्चिम में सिर्फ चार किमी और राज्य की राजधानी इम्फाल से 110 किमी दक्षिण में है।

 

10 रुपए सस्ता हो सकता है petrol-diesel

Leave a Comment